जिस युवक को गोताखोर और एसडीआरएफ की टीम शिवरीनारायण महानदी में तलाश कर रहे थे वह युवक उडीसा की राजधानी भुनेश्वर में रिश्तेदार के घर में सकुशल है 

शिवरीनारायण — गौरतलब है कि 29 जुलाई की सुबह लगभग 7 बजे विनय अग्रवाल के शबरी सेतु से मछली को दाना खिलाते समय पुल से नदी में गिर जाने की खबर नगर में तेजी से आग की तरह फैल गयी उसके बाद लोग नदी किनारे पहुचने लगे सुचना पाकर घटना स्थल पर स्थानीय पुलिस और राजस्व अधिकारी भी पहुंच गये उसके बाद नदी में युवक की तलाश जारी कर दिए पुलिस ने गोताखोर और बिलासपुर से एसडीआरएफ की टीम को भी बुलवाये थे जो मोटरवोट में सुबह से शाम तक नदी में युवक को तलाश करते रहे लेकिन उन्हे कोई सफलता हाथ नही लगी जिससे सब मायुस और परेशान नजर आये। लेकिन आज सुबह विनय अग्रवाल के कुछ रिश्तेदारों ने सोशल मीडिया में विनय अग्रवाल को भुनेश्वर (उडीसा) में सकुशल होने तथा नदी में नही गिरने की जानकारी दिया है। अब सवाल यह उठ रहा है कि जब विनय अग्रवाल नदी में नही गिरा था तो उनके पुल से नदी में गिरने की झुठी खबर नगर में किसने फैलाया था ? विनय जिस मोटरसायल को पुल में लेकर गया था उसेे पुल किनारे जमीन में लेटाकर चाबी को गाड़ी में लगे अवस्था मे छोड़ कर क्यों भागा ? विनय पुरे दिन अपने मोबाईल से परिवार वालों से सम्पर्क कर पुल में मोटर सायकल छुटे होने की जानकारी क्यों नही दी ? आदि कई सवाल है जिसका जवाब केवल विनय ही दे सकता है । अब पुलिस को विनय की शिवरीनारायण वापस आने का इंतजार है उनके आने के बाद ही इस घटना केे रहस्य से पर्दा उठ सकता है।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.