आरआरवीयूएनएल और अदाणी फाउंडेशन के मेडिकल वाहन से ग्रामीणों को घर बैठे डॉक्टर्स और अच्छे इलाज की सुविधा

अंबिकापुर (सरगुजा): वर्तमान वित्तीय वर्ष में भी पिछले तीन महीनों से चलित मेडिकल वाहन द्वारा खनन प्रभावित ग्रामों में 35 से ज्यादा नियमित चिकित्सा शिविरों का आयोजन किया गया। जिसमें जून के अंत तक ग्राम साल्ही, तारा, घाटबर्रा, जनार्दनपुर, फतेहपुर इत्यादि सहित 12 ग्रामों के ग्रामीणों को अब घर बैठे अच्छा इलाज मिल रहा है। चलित मेडिकल वाहन की मदद से इन चिकित्सा शिविरों में अप्रैल से जून तक पांच सौ से अधिक स्थानीय नागरिकों को भिन्न-भिन्न रोगों का मुफ्त इलाज प्रदान किया गया और दवाइयां भी दी गयी हैं। इन स्वास्थ्य शिविरों में अदाणी फाउंडेशन के वरिष्ठ चिकित्सकों द्वारा इलाज तथा परामर्श दिया जा रहा है। वहीं इन्हीं ग्रामों में चौबीस घंटे आपात सेवा के लिए एम्बुलेंस सेवा भी चलायी जा रही है।

ग्रामीण इलाकों में अच्छी स्वास्थ्य सुविधाओं का न मिलना आम बात मानी जाती है। लेकिन इस आम धारणा को राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड (आरआरवीयूएनएल) ने अपने संज्ञान में लेते हुए काफी हद तक बदल दिया है। आरआरवीयूएनएल अपने CSR कार्यक्रम के अंतर्गत अदाणी फाउंडेशन के साथ मिल कर छत्तीसगढ़ के अंदरूनी इलाकों में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने का बीड़ा उठाया था। इसके अंतर्गत गत दस वर्षों में उदयपुर विकासखंड के 12 ग्रामों में ग्रामीण चिकित्सा केंद्र, डिस्पेंसरी, एम्बुलेंस तथा चलित चिकित्सा वाहन की सेवाएं प्रदान कर रहा है।


उल्लेखनीय है कि वर्ष 2021 -22 के अंत में नौ ऐसे शिविरों का आयोजन कुल दस माइनिंग प्रभावित गांवों में किया गया था जिसमें 600 से ज्यादा लोग लाभान्वित हुए थे और यह संख्या इस साल और भी बढ़ जायेगी। आरआरवीयूएनएल और अदाणी फाउंडेशन स्वास्थ्य सेवाओं को ज्यादा से ज्यादा स्थानियों तक पहुँचाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे है। इसके साथ ही फाउंडेशन ने शिवनगर में एक डिस्पेंसरी की स्थापना भी की है ताकि स्वास्थ्य सेवा से लाभान्वित होने वाले गांवों का दायरा बढ़ाया जा सके और दूर दराज़ गांव वालो को हर छोटे-मोटे कष्ट के लिए शिविरों में आने की जरूरत ना पड़े। इसी साल जनवरी में खुले इस स्वास्थ सुविधा केंद्र की खूबियों पर नज़र डालते हैं। केंद्र का संचालन एक प्रशिक्षित मेडिकल टीम द्वारा किया जाता है, जिसमें अनुभवी डॉक्टर्स, पैरामेडिकल स्टाफ तथा कुछ नर्सें भी हैं। करीब-करीब सभी प्रकार की निवारक और उपचारात्मक (प्रिवेंटिव तथा क्यूरेटिव) स्वास्थ सुविधा प्रदान करने के साथ-साथ, केंद्र में जनरल चेक -उप, रक्तचाप (ब्लड प्रेशर), मधुमेह (ब्लड शुगर), ग्लूकोस चढाने (IV फ्लूइड) इत्यादि की संपूर्ण व्यवस्था है।

अभी हाल ही में आरआरवीयूएनएल के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर द्वारा 100 बिस्तरों का सर्व सुविधा युक्त अस्पताल खोलने की बात भी कही गई है जो जिला प्रशासन से अनुमोदन के लिए प्रक्रियाधीन हैं। आरआरवीयूएनएल द्वारा अपने सामाजिक सरोकार कार्यक्रम के अंतर्गत अदाणी फाउंडेशन के द्वारा पहले से संचालित कार्यक्रमों की बदौलत और दृढ़ इक्षाशक्ति का ही परिणाम है की आज सरगुजा के ना सिर्फ किसान लाभान्वित हो रहे हैं, बल्कि बच्चों को भी गुणवत्ता युक्त शिक्षा और कौशल विकास का अवसर मिल रहा है। जिनके द्वारा जिले के युवक और युवतियों की राज्य तथा देश के विभिन्न हिस्सों में रोजगार का अवसर भी मिला है।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.